BREAKING NEWS
»विजडम ट्री स्कूल में बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम से समां बांधा »जन्माष्टमी 2019: कल कई सड़कों पर रूट डायवर्जन »एसटीएफ की टीम ने गैंगस्टरों को अवैध हथियार सप्लाई करने वाले सप्लायर को किया गिरफ्तार »नोएडा प्राधिकरण ने 36 अवैध दुकानें की सीज »नोएडा प्राधिकरण की सीईओ रितु माहेश्वरी ने जन्माष्टमी के दृष्टिगत विभिन्न क्षेत्रों का भ्रमण किया
Wednesday, Nov 13,2019
--Advertisement--

फरीदाबाद: चिकनगुनिया से फोर्टिस अस्पताल में पत्रकार की मौत

Friday, 09 September 2016, 10:08:00 AM : www.dainikgrenoexpress.com

नीलम चौक के नजदीक टोटल टीवी के पत्रकार सचिन खेड़ा की संदिग्ध चिकनगुनिया से एस्कॉर्टस-फोर्टिस अस्पताल में मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि डॉक्टर और स्टाफ द्वारा उपचार में लापरवाही बरती गई थी। उधर, कोतवाली थाना पुलिस और डीसीपी एनआईटी द्वारा सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देकर अस्पताल प्रबंधन और डॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज करने से इंकार करने पर पत्रकारों ने अस्पताल के सामने बैठकर धरना दिया। जिसके बाद पुलिस को डॉक्टर और अस्पताल के अन्य स्टाफ के खिलाफ मामला दर्ज करना पड़ा।नीलम चौक के नजदीक टोटल टीवी के पत्रकार सचिन खेड़ा की संदिग्ध चिकनगुनिया से एस्कॉर्टस-फोर्टिस अस्पताल में मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि डॉक्टर और स्टाफ द्वारा उपचार में लापरवाही बरती गई थी। उधर, कोतवाली थाना पुलिस और डीसीपी एनआईटी द्वारा सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देकर अस्पताल प्रबंधन और डॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज करने से इंकार करने पर पत्रकारों ने अस्पताल के सामने बैठकर धरना दिया। जिसके बाद पुलिस को डॉक्टर और अस्पताल के अन्य स्टाफ के खिलाफ मामला दर्ज करना पड़ा। न्यू जनता कॉलोनी निवासी 39 वर्षीय सचिन खेड़ा के परिवार में पत्नी और दो बच्चे हैं। पेट दर्द होने पर 29 अगस्त को फोर्टिस अस्पताल में भर्ती हुए थे। 1 सितंबर को डॉक्टर ने उन्हें छुट्टी दे दी थी। घर पहुंचने पर उन्हें तेज बुखार हो गया था। जिसके चलते दो सितंबर को उनके परिजनों ने उन्हें फिर से अस्पताल में भर्ती करवा दिया। सचिन का इलाज डॉक्टर अमित मिगलानी कर रहे थे। परिजनों की गुजारिश पर उन्होंने साथी डॉक्टर से सलाह ली और उनका चेकअप किया। जिस पर डॉक्टर ने उनको चिकनगुनिया होना बताया। तीन दिन के उपचार के दौरान सचिन की हालत मेें सुधार हो गया। डॉक्टर ने गुरुवार को उन्हें छुट्टी देने का आश्वासन दिया। लेकिन बुधवार दोपहर बाद अचानक उनकी तबीयत खराब हो गई। सचिन को सांस लेने में दिक्कत होने लगी। उन्हें आईसीयू में शिफ्ट किया गया। लेकिन बुधवार- गुरुवार रात उन्हें मृत घोषित कर दिया गया। जिस पर उनके परिवार और फरीदाबाद के पत्रकार जगत में शोक की लहर दौड़ गई। परिजनों ने आरोप लगाया कि डॉक्टर ने सचिन के इलाज में लापरवाही बरती है तो कोई किसी दवा की ओवरडोज दे दी है। जिस कारण उनका शरीर नीला पड़ गया था। मृतक पत्रकार के भाई आशीष का आरोप है कि डॉक्टरों ने सचिन की बीमारी के बारे में छिपाया और तथ्यपरक स्थिति के बारे में जानकारी नहीं दी। मौत होने पर पत्रकार पहुंच गए अस्पताल गुरुवार सुबह मौत होने का पता चलने पर शहर के पत्रकार एस्कॉटर्स-फोर्टिज अस्पताल पहुंच गए। उन्होंने डॉक्टर से सचिन की मौत के बारे में जानकारी जुटाई। लापरवाही का पता चलने पर पत्रकारों ने अस्पताल प्रबंधन और डॉक्टर के खिलाफ लापरवाही का मामला दर्ज करने की मांग की। पहले से धरने पर बैठे मृतक के परिजनों के साथ पत्रकार भी बैठ गए। मामले को भांपते हुए थाना एसएचओ सुरेश भड़ाना अस्पताल पहुंच गए। उसके बाद एसीपी एनआईटी राजेश चेची भी पहुंचे। पत्रकारों ने उनसे मामला दर्ज करने की मांग की। एसीपी ने जब डीसीपी एनआईटी पूर्णचंद पंवार से एफआईआर की इजाजत मांगी तो उन्होंने सुप्रीम कोर्ट के आदेश का हवाला देकर एफआईआर दर्ज करने का आदेश देने से मना कर दिया। जिससे पत्रकार आगबबूला हो गए। उन्होंने पुलिस प्रशासन के खिलाफ अस्पताल के बाहर विरोध शुरू कर दिया। पत्रकारों ने धरने के दौरान मरीजों और तीमारदारों की परेशानी का भी ख्याल रखा। विधायक और अधिकारी भी बैठे धरने पर पत्रकारों के धरने का पता चलने पर बल्लभगढ़ विधायक मूलचंद शर्मा, मुख्य संसदीय सचिव सीमा त्रिखा के पति वरिष्ठ अधिवक्ता अश्वनी त्रिखा, उद्योग मंत्री विपुल गोयल के भाई अशोक गोयल और आरएसएस के पदाधिकारी पहुंच गए। वहीं सिविल सर्जन गुलशन अरोड़ा, सिटी मजिस्ट्रेट भी पहुंच गए। सामाजिक संगठनों के लोगों ने भी धरने में शिरकत की। धरने पर बैठकर विधायक और मुख्य संसदीय सचिव के पति ने पत्रकारों को एफआईआर दर्ज करने का आश्वासन दिया। जिसके बाद पुलिस ने डॉक्टर के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। पत्रकारों ने बीके अस्पताल तक किया पैदल मार्च पत्रकारों ने पुलिस और अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ रोष स्वरूप फोर्टिस अस्पताल से लेकर बीके अस्पताल तक पैदल मार्च किया। पत्रकार की मौत पर शोक जताने के लिए बीके अस्पताल में मुख्य संसदीय सचिव सीमा त्रिखा, पूर्व मुख्य संसदीय सचिव शारदा राठौर, कांग्रेस नेता सुमित गौड़, विकास चौधरी, इनेलो नेता अरविंद भारद्वाज, ललित बंसल, बीजेपी नेता राजेश नागर आदि पहुंच गए। डॉक्टर के बोर्ड ने किया पोस्टमार्टम तीनडॉक्टरों के पैनल ने मृतक पत्रकार के शव का पोस्टमॉर्टम किया। वहीं डीसी ने चंद्रशेखर ने वहां व्यवस्था बनाने के लिए फरीदाबाद तहसीलदार डॉक्टर नरेश को ड्यूटी मजिस्ट्रेट नियुक्त कर दिया। वहीं पीएमओ डॉक्टर वीरेंद्र यादव भी पोस्टमार्टम के वक्त शवगृह पर मौजूद रहे। उधर, पुलिस ने सचिन से संबंधित सारा रिकॉर्ड हॉस्पिटल से कलेक्ट कर लिया है। केंद्रीय राज्य मंत्री कृष्णपाल गुर्जर, उद्योग मंत्री विपुल गोयल, पुलिस कमिश्नर डॉक्टर हनीफ कुरैशी, डीसी चंद्रशेखर आदि ने सचिन की मौत पर शोक व्यक्त किया है। ‘डॉक्टरों के पैनल से पोस्टमॉर्टम कराया गया है और सचिन की बीमारी से संबंधित सारा रिकॉर्डहॉस्पिटल से कलेक्ट किया गया है और बिसरा जांच के लिएभेजा जाएगा। रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी’‘मौत के कारणों के बारे में अभी कुछ कहना जल्दबाजी होगी। डॉक्टरों के बोर्ड ने पोस्टमॉर्टम किया है। रिपोर्ट आने पर ही कुछ पता चलेगा। पोस्टमॉर्टम की विडियोग्राफी कराई गई है’

 
Copyright © 2016 All rights reserved by : Greno Express
Powered by : FlagBits Technologies